[T20 World Cup 2022] | पत्नी के प्यार ने सूर्यकुमार यादव को बनाया स्टार बल्लेबाज

 आज सूर्यकुमार यादव टीम इंडिया के ऐसे सूर्य बन गए हैं जिसकी चमक से सारा विश्व चकाचौंध हो रहा है। सूर्यकुमार यादव भारत के स्टार बल्लेबाज बन गए हैं और लगातार अपने लिए और अपनी टीम के लिए नए-नए कीर्तिमान गढ़ रहे हैं।

वर्तनमान टी20 विश्वकप 2022 जो कि ऑस्ट्रेलिया में खेला जा रहा है वहां भी यह सूर्य चारों ओर अपनी चमक बिखेर रहा है।


suryakumar-yadav-devisha-shetty


टी20 वर्डकप के सुपर12 ग्रुप मैच मे भारत का तीसरा मैच जिसमे भारत का मुकाबला साउथ अफ्रीका के खिलाफ था पर्थ के मैदान पर खेले गए इस मैच मे साउथ अफ्रीका ने गेंद और बल्ले दोनो से शानदार प्रदर्शन करते हुए टीम इंडिया को करारी मात दी थी।


पर्थ में खेले गए इस मुकाबले में जहां साउथ अफ्रीका की शानदार गेंदबाजी आक्रमण के सामने भारत के सभी स्टार बल्लेबाज संघर्ष करते दिखे और जल्दी-जल्दी अपना विकेट खोते चले गएं।

वहीं सूर्यकुमार यादव एक छोर से अपने नेचुरल अंदाज में दक्षिण अफ्रीकी गेंदबाजों की धुनाई करते रहें।


इस मैच में सूर्यकुमार यादव ने 6 चौके और 3 छक्के की मदद से 40 गेंदों पर शानदार 68 रनों की उपयोगी पारी खेली जिसकी मदद से भारत, साउथ अफ्रीका के खिलाफ 133 रन का सम्मानजनक स्कोर बना पाया।


14 सितंबर 1990 को जन्मे सूर्यकुमार यादव का पूरा नाम सूर्यकुमार अशोक यादव है तथा साथी खिलाड़ियों के बीच सूर्या नाम से प्रचलित हैं।


  भले ही आज सूर्यकुमार यादव के बिना टीम इंडिया की कल्पना करना मुश्किल लगता हो लेकिन तीन-चार साल पहले तक इस दाहिने हाथ के बल्लेबाज के लिए टीम इंडिया के लिए खेलना भी केवल एक कल्पना मात्र ही था। उन्हें टीम इंडिया की कैप पहनने के लिए काफी लंबा संघर्ष करना पड़ा है।


बीस साल की उम्र मे रणजी खेलना शुरू किया


सूर्यकुमार यादव के लिए भले ही भारत की राष्ट्रीय टीम मे खेलने के लिए 30 वर्ष की लंबी उम्र तक इंतजार करना पड़ा हो लेकिन इस खिलाड़ी ने 2010 मे 20 साल की उम्र से मुम्बई के लिए रणजी ट्रॉफी खेलना शुरू कर दिया था।


suryakumar-yadav-t20-career-in-hindi


उस समय रोहित शर्मा भी सूर्या के साथ रणजी ट्रॉफी खेलते थें। सूर्यकुमार यादव ने एक रणजी सीजन मे 754 रन बनाकर मुंबई टीम मे अपनी जगह पक्की कर ली थी और घरेलू क्रिकेट मे अपने प्रदर्शन से एक के बाद एक नए-नए रिकॉर्ड बनाते रहें।


वर्ष 2014 मे एक मैच के दौरान किसी बात को लेकर शार्दुल ठाकुर से इनकी लड़ाई हो गयी और अनुशासन हीनता की कार्यवाही की वजह से सूर्या को मुंबई टीम की कप्तानी छोड़नी पड़ी थी।


2023 मे अंडर-23 एशिया कप मे इनके साथ खेले कुछ जूनियर खिलाड़ियों जैसे अक्षर पटेल, जसप्रीत बुमराह, लोकेश राहुल का एक के बाद एक राष्ट्रीय टीम में सेलेक्शन होता चला गया परन्तु सूर्यकुमार यादव इस दौरान कभी भी सेलेक्टर की लिस्ट मे नही आ पाएं।


राष्ट्रीय टीम मे चयन न होने की वजह से इस खिलाड़ी का हौसला टूटने लगा था और उनकी फिटनेस भी काफी बिगड़ने लगी थी। ऐसे हालात अगर कुछ समय और चलते रहते तो सूर्यकुमार यादव का क्रिकेट कैरियर भी समाप्त हो सकता था।


लेकिन जैसा कि कहावत है कि हर सफल आदमी के पीछे किसी औरत का हाथ होता है। इसी कहावत को चीरतार्थ करते हुए ऐसे बुरे समय मे इनकी पत्नी इनकी जिंदगी में मसीहा बनकर आयीं और देखते ही देखते सबकुछ बदलकर रख दिया।


पत्नी बनी गुरु


वर्ष 2016 मे देविशा शेट्टी पत्नी बनकर सूर्यकुमार यादव के जीवन मे आई और देखते ही देखते उनके जीवन मे सबकुछ बदल कर रख दिया। जिसकी वजह से आज की तारीख मे सूर्यकुमार यादव की गिनती दुनिया के सर्वश्रेष्ठ टी20 बल्लेबाजों मे होती है।


इनका खेलने का अपना एक अलग ही अंदाज है जिसकी वजह से एबी डिविलियर्स के बाद इन्हें क्रिकेट की  दुनिया का नया मिस्टर 360 माना जाने लगा है। और यहां तक का सफर तय करने मे इनकी पत्नी देविका शेट्टी का बहुत बड़ा हाथ है।


एक इंटरव्यू के दौरान सूर्यकुमार यादव ने खुद बताया था कि जब 2018 में उनका चयन राष्ट्रीय टीम के लिए नही हुआ तो वे काफी परेशान रहने लगे और अंदर ही अंदर टूटने लगे थे। इन हालातों मे पत्नी ने भावनात्मक और मानसिक दोनो तरह से काफी सपोर्ट किया। और कहा कि इन सब फालतू की बातों को भूलकर अपने खेल और अपनी फिटनेस पर पूरा फोकस करो धीरे-धीरे सब ठीक हो जाएगा।


फिर मैंने भी वैसा ही किया और सारी निगेटिव चीजों को भूलकर सिर्फ और सिर्फ अपने खेल और फिटनेस पर ध्यान देना शुरू कर दिया जिसका नतीजा सबके सामने है।


IPL ने बदली किस्मत


वैसे तो सूर्यकुमार यादव 2012 मे ही आईपीएल से जुड़ गए थे लेकिन 2017 तक कोई खास प्रदर्शन नही कर पाएं। लेकिन जब से पत्नी की बातों पर ध्यान दिया और अपनी फिटनेस सही की उसके बाद 2018, 2019, 2020 और उसके बाद के आईपीएल सीजन में भी लगातार अच्छी पारियां खेलकर काफी रन बनाएं।


आईपीएल सीजन 2018 में वे सबसे महंगे अनकैप्ड खिलाड़ी बने जिसे मुंबई इंडियन्स ने 3.2 करोड़ रुपए में खरीदा। आईपीएल मे लगातार अच्छी बल्लेबाजी की वजह से पहली बार राष्ट्रीय चयनकर्ताओं की भी नजरों मे आ गए।


2021 मे सूर्यकुमार यादव को पहली बार टीम इंडिया की जर्सी पहनने का मौका मिला और इसके बाद भारतीय टीम के लिए कई विस्फोटक पारियां खेलकर टीम इंडिया के आवश्यक अंग बन गएं हैं।

अगर सूर्यकुमार यादव के टी20 कैरियर पर नजर डालें तो उन्होंने 38 टी20 अंतरराष्ट्रीय मैच खेलकर 177.4 के स्ट्राइक रेट से 1209 रन बनाएं हैं।


suryakumar-yadav-married-life-in-hindi


इस साल की शुरुआत मे ही सूर्यकुमार यादव ने टीम इंडिया के पूर्व कप्तान और स्टार बल्लेबाज विराट कोहली द्वारा टी20 अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मे एक कैलेंडर वर्ष मे बनाए गए सर्वाधिक रनों के विश्व कीर्तिमान को ध्वस्त कर दिया।


मौजूदा टी20 वर्डकप मे अब तक सूर्यकुमार यादव ने 4 मैचों में 164 रन बनाएं हैं। और सूर्यकुमार यादव के लिए यह सब अपनी पत्नी देविशा की वजह से ही करना संभव हो पाया है।


सूर्यकुमार यादव खुद बताते हैं कि पहले मैं सबकुछ खाता-पीता था इसलिए फिटनेस भी सही नही थी लेकिन फिर सुपर कोच बनकर मेरी जिंदगी में मेरी पत्नी आई और प्रॉपर डाइट फॉलो कराने लगी जिसके बाद मेरी फिटनेस पूरी तरह से बदल गई जिससे मेरे प्रदर्शन में भी अभूतपूर्व बदलाव आ गया और मैं बेहतरीन क्रिकेट खेलने लगा।


सूर्यकुमार यादव भी अपनी सफलता का श्रेय अपनी पत्नी को ही देते हैं। फिलहाल उनके प्रशंसक तो यही चाहते हैं कि सूर्या आगे भी मिस्टर 360 बनकर एक के बाद विस्फोटक परियां खेलते रहें। 

एक टिप्पणी भेजें (0)
और नया पुराने