शहतूत के फायदे और नुकसान-Mulberry Benefits & Side Effects In Hindi

शहतूत (Mulberry In Hindi) :

शहतूत का फल खाने में जितना स्वादिष्ट होता है उतना ही सेहतमंद भी होता है। आयुर्वेद में शहतूत के ढ़ेरों फायदों का बखान है। शहतूत में पोटेशियम, विटामिन ए और फोस्फोरस प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। आमतौर पर शहतूत दो तरह के होते हैं। शहतूत एक ऐसा फल है जिसे कई से लोग कच्चा ही खाना पसंद करते हैं और कुछ पक जाने पर।

शहतूत के बारे में अधिक जानें : शहतूत (Shahtoot)

शहतूत एक छोटा फल है जो आमतौर पर लाल रंग के अतिरिक्त सफेद, काला और बैंगनी रंग का भी होता है। यह स्वाद में अंगूर की तरह मीठा होता है और इसे सुखाकर भी खाया जा सकता है। शहतूत को अंग्रेजी में मुलमेरी और आम भाषा में शहतूत कहा जाता है। मई के महीने में शहतूत पूरी तरह से पक जाते हैं और पोषक तत्वों से भरपूर होने के साथ ही यह बहुत स्वादिष्ट होता है।

शहतूत के फायदे (Mulberry Benefits In Hindi) :

1. आँखों में फायदेमंद : शहतूत में विटामिन ए पाया जाता है जो आँखों में तनाव को कम करता है और आँखों की रोशनी को सुधारता है।

2. पाचन शक्ति में फायदेमंद : शहतूत में पर्याप्त मात्रा में फाइबर होता है जिससे पेट का पाचन सुचारू रूप से काम करता है और शरीर स्वस्थ रहता है।

3. स्वस्थ मष्तिष्क में फायदेमंद : शहतूत में कैल्शियम होता है जो मष्तिष्क को स्वस्थ रखने के लिए आवश्यक होता है।

4. इम्युनिटी बढ़ाने में फायदेमंद : शहतूत में एल्कोलॉयड पाया जाता है जो मैक्रोफेजेज को सक्रिय करता है और इम्यून सिस्टम को बेहतर बनाने में मदद करता है।

5. शुष्क त्वचा में फायदेमंद : शहतूत में सभी विटामिन भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं जो शुष्क और नाजुक त्वचा के इलाज में बहुत लाभदायक होते हैं।

6. एनीमिया में फायदेमंद : शहतूत में पर्याप्त मात्रा में आयरन पाया जाता है जो एनीमिया के मरीज के लिए बहुत लाभदायक होता है। इसका सेवन करने से शतिर में हिमोग्लोबिन की संख्या बढ़ जाती है।

7. स्ट्रोक से बचाने में फायदेमंद : शहतूत खाने से शरीर स्वस्थ रहता है और स्ट्रोक के लक्षण दूर हो जाते हैं। इसलिए स्ट्रोक की समस्या से पीड़ित लोगों को नियमित शहतूत खाना चाहिए।

8. ब्लड सर्कुलेशन में फायदेमंद : शहतूत की पत्तियों और फलों में रिज्वेराट्रोल की मात्रा पाई जाती है जो रक्त के प्रवाह को स्टीमुलेट करता है और ब्लड सर्कुलेशन को तेज करता है।

9. किडनी में फायदेमंद : शहतूत में पाए जाने वाले तत्व किडनी में प्रवेश कर किडनी के स्टोन के लक्षणों को दूर करते हैं और बीमारियों से बचाते हैं।

10. मधुमेह में फायदेमंद : शहतूत इंसुलिन प्रतिरोध को कम करते हैं जिससे टाइप टू डायबिटीज में डिले हो सकता है इसलिए अगर आपको टाइप टू मधुमेह होने की संभावना है तो शहतूत का रस या चाय आपकी मदद कर सकती है।

शहतूत के नुकसान (Side Effects Of Mulberry In Hindi) :

1. किडनी की समस्या में नुकसानदायक : जो व्यक्ति किडनी की गंभीर समस्याओं से पीड़ित हों उन्हें शहतूत नहीं खाना चाहिए क्योंकि शहतूत में अधिक मात्रा में पोटेशियम पाया जाता अहै जो किडनी की समस्या को बढ़ा सकता है।

2. पराग नुकसानदायक : शहतूत के पेड़ के पराग एलर्जिक रिएक्शन पैदा कर सकते हैं इसलिए अगर आपकी त्वचा संवेदन शील है तो शहतूत से परहेज करना चाहिए नहीं तो आपकी त्वचा पर रैशेज आ सकते हैं या सूजन और खुजली हो सकती है।

3. शहतूत का सेवन नुकसानदायक : हालाँकि शहतूत त्वचा के लिए फायदेमंद होता है लेकिन एक प्रयोग में पाया गया है कि शहतूत में एर्बुटिन की मात्रा पाई जाती है इस वजह से शहतूत से बने उत्पादों का इस्तेमाल करने से त्वचा कैंसर हो सकता है।

4. ब्लड शुगर का स्तर कम होने पर नुकसानदायक : अगर पहले से ही आपके ब्लड शुगर का स्तर कम है तो शहतूत का सेवन न करें क्योंकि यह ब्लड शुगर लेवल का काफी निचे कर सकता है जिसकी वजह से आपको हाइपोग्लाइसेमिया हो सकता है।

5 गर्भावस्था में नुकसानदायक : गर्भावस्था और बच्चे को स्तनपान करवाने वाली महिलाओं को डॉ से सलाह लेकर ही शहतूत का सेवन करना चाहिए।

6. गुर्दे की बिमारियों और पित्ताशय के दर्द में नुकसानदायक : शहतूत अत्यधिक पोटेशियम से भरपूर होते हैं जो गुर्दे की बिमारियों और पित्ताशय के दर्द से पीड़ित रोगियों में जटिलता पैदा कर सकते हैं हालाँकि पोटेशियम के कई स्वास्थ्य लाभ हैं। यह महत्वपूर्ण है कि किडनी से संबंधी विकार वाले रोगियों को पोटेशियम को अधिक लेने से बचना चाहिए और इसी लिए शहतूत से बचना चाहिए। अगर आपको गुर्दे की पथरी या कोई अन्य विकार है तो भी शहतूत की चाय लेने से बचें।

No comments:

Post a Comment