अमरुद के फायदे और नुकसान-Guava Benefits And & Effects In Hindi

अमरूद (Guava In Hindi):

अमरुद को अंग्रेजी में Guava कहते हैं भारत के जादातर सभी प्रन्तो में अमरुद के पेड़ पाए जाते है। वर्षा ऋतु में अमरूद के पेड़ फूलते हैं और जाड़े में फल प्राप्त होते हैं। एक पेड़ लगभग 30 वर्ष तक भली भाँति फल देता है और प्रति पेड़ से 500-600 फल प्राप्त होते हैं। 

अमरुद के बारे में अधिक जानें : अमरुद (Amrud)

कीड़े तथा रोग से वृक्ष को साधारणात: कोई विशेष हानि नहीं होती। अमरूद को सर्दियों में फलों को राजा भी कहा जाता है। अमरूद यानी अमृत-सा मीठा फल। ऐसा फल जो डायटिबीज जैसे ही कई रोगियों के रोग नष्ट करने में कारगर है।

अमरुद का सेवन कैसे करें : पके हुए अमरुद को काटकर इस पर स्वादनुसार काला नमक लगा लें अब इसे खाएं अब बात आती है इसके अंदर बीजों की जब आप इसे खाएं तो बीजों को थोडा चबाकर ऐसे ही निगल जाएँ क्यूंकि अमरुद के बीज पेट के लिए बहुत ही गुणकारी होते हैं।

अमरूद के फायदे (Guava Benefits In Hindi) :

1. आँखों के लिए फायदेमंद : अमरुद में विटामिन A भरपूर मात्रा में पाया जाता है जो आँखों को स्वस्थ बनाये रखता है।

2. कील मुंहासों में फायदेमंद : अमरूद में पाए जाने वाले विटामिन ए, बी, सी और पोटैशियम त्वचा में निखार लाते है। साथ ही त्वचा को दाग-धब्बों और मुंहासों से भी बचाते है।

3. हृदय की कमजोरी में : अमरुद का थोडा सा रश लें अब इसमें थोडा सा नीबू का रश मिला लें फिर इसका सेवन करें ऐसा करने से ह्रदय की कमजोरी दूर होकर ह्रदय शक्तिशाली बनता है।

4. खांसी में फायदेमंद : प्रतिदिन सुबह-सुबह 1 ताजा अमरुद का सेवन करें ऐसा करने से खांसी में लाभ मिलता है और साथ ही कफ विकार की समस्या में भी लाभ मिलता है।

5. उच्च रक्तचाप में फायदेमंद : अमरुद खून से कोलेस्ट्रोल की मात्रा कम करता है और साथ ही इसे गाढ़ा होने से भी रोकता है।

6. मधुमेह रोग में फायदेमंद : पके अमरूद को आग में डालकर उसे निकाल लें, और उसका भरता बना लें, उसमें अवश्कतानुसार नमक, कालीमिर्च, जीरा, मिलाकर सेवन करें। ऐसा करने से मधुमेह रोग में लाभ मिलता है।

7. प्रतिरोधक क्षमता के लिए : अमरुद विटामिन सी का काफी बेहतरीन स्त्रोत होता है। इसमें एंटीऑक्सीडेंटस (antioxidants) भी होते हैं जो प्रतिरोधक क्षमता बढाते हैं।

8. वजन घटाने में फायदेमंद : अमरुद के सेवन से बजन घटता है क्यूंकि अमरुद रफेज (roughage) से भरपूर होता है और इसमें विटामिन, प्रोटीन तथा खनिज पदार्थों की भी भरपूर मात्रा होती है।

9. स्कर्वी से बचाव : अमरुद में विटामिन c अधिक मात्रा में पाया जाता है इसलिए स्कर्वी रोग में अमरुद का सेवन करना चहिये।

10. गठिया रोग में फायदेमंद : अमरुद की 4-5 कोमल पत्तियां लेकर उन्हें पीस लें पीसने के बाद उन पर काला नमक डाल लें फिर इनका सेवन करें ऐसा करने से गठिया रुग में लाभ मिलता है।

अमरुद के नुकसान (Side Effects Of Guava In Hindi) :

किसी चीज के फायदे होते हैं तो उस चीज के कुछ नुकसान भी होते हैं अगर आप अमरुद का जादा सेवन करेंगे तो आपको नीचे डी गयी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है तो आप उचित मात्रा में ही अमरुद का सेवन करें।

1. पेट के रोग : अगर आप अमरुद का जादा सेवन करते हैं तो आपको पेट से सम्भंदित रोग जैसे गैस , सुजन , एसिडिटी आदि रोगों का सामना करना पड़ सकता है इसलिए अमरुद का उचित मात्रा में ही सेवन करना चाहिए।

2. पाचन शक्ति :- अमरुद में जादा फाइबर होता है इसलिए अगर आप अमरुद का जादा सेवन करेंगे तो पाचन शक्ति पर बुरा प्रभाव पड़ सकता है इसलिए उचित मात्रा में ही सेवन करें।

3. डायरिया रोग :- अमरुद के जादा सेवन से डायरिया रोग हो सकता है क्यूंकि इसमें उचित मात्रा में फाइबर होता है जादातर महिलाएं अमरुद का जादा सेवन करने से बचें।

4. गर्भवती महिलायों को : अमरुद में जादा फाइबर होने के कारण गर्भवती महिलायों एवं स्तनपान कराने वाली महिलायों को अमरुद का जादा सेवन नहीं करना चाहिए अगर आप अमरुद का सेवन करना चाहती हैं तो आप पहले अपने किसी निजी डॉ से सम्पर्क करें।

5. फ्रिज में न रखें :- फ्रिज में रखे हुए अमरुद का सेवन नही करना चहिये क्यूंकि फ्रिज में रखने से अमरुद के सभी पोषक तत्व नष्ट हो जाते हैं फिर अमरुद का सेवन करने का कोई फायदा नहीं रहता।

6. स्वास्थ्य सम्बन्धित : - अगर आपको सवास्थ्य से रिलेटेड कोई भी परेशानी है तो आपको अमरुद का कम से कम सेवन करना चहिये क्यूंकि इसमें पोटेशियम और फाइबर जादा मात्रा में होता है और पोटेशियम और फाइबर दोनों का ही जादा मात्रा में सेवन करना हानिकारक है।

No comments:

Post a Comment