आलूबुखारा (Alubukhara) के फायदे और नुकसान-Plum Benefits And Side Effects In Hindi

आलूबुखारा (Plum In Hindi) :

आलूबुखारा गर्मियों में मिलने वाला फल है और इसका स्वाद खट्टा-मीठा होता है। आलूबुखारा का प्रयोग बहुत सी चीजों को बनाने में किया जाता है जिसमें लजीज पकवान भी आते हैं। इस फल को ताजा खाने के साथ-साथ सुखा कर भी खाया जाता है।

आलूबुखारा के बारे में अधिक जानें : आलूबुखारा (Alubukhara)

आलूबुखारा एक गुठली वाला फल है और यह गूदेदार और रसदार फल भी है। आलूबुखारा का रंग लाल पैनोरमा जैसा होता है। आलूबुखारा सभी जगहों पर पाया जाता है। यह टमाटर की तरह दिखाई देता है।

आलूबुखारा के फायदे (Benefits Of Plum In Hindi) :

1. आँखों के लिए फायदेमंद : आलूबुखारा में विटामिन K और विटामिन B6 पाई जाती हैं जो आँखों को होने वाली परेशानियों को कम कर देती हैं इसलिए आलूबुखारा का सेवन करना चाहिए।

2. त्वचा के लिए फायदेमंद : आलूबुखारा में एंटी ऑक्सीडेंट होता है जिसका नियमित रूप से सेवन करने से त्वचा ग्लो करने लगती है। जब आप आलूबुखारा का सेवन करते हैं तो इससे आपकी याददाश्त भी अच्छी हो जाती है।

3. वजन कम करने में फायदेमंद : आलूबुखारा में कैलोरी बहुत ही कम होती है जो वजन को बढने से रोकती हैं। अगर आपका वजन बहुत ज्यादा है तो आप आलूबुखारा का सेवन कर सकते हैं क्योंकि इसका सेवन करने से भूख भी शांत होती है।

4. कैंसर में फायदेमंद : आलूबुखारा का छिलके के साथ सेवन करने से ब्रेस्ट कैंसर और कैंसर को रोका जा सकता है क्योंकि आलूबुखारा के छिलके और गुदे में ऐसे तत्व होते हैं जो कैंसर को पैदा करने वाले तत्वों को विकसित होने से रोकता है।

5. ह्रदय के लिए फायदेमंद : आलूबुखारा का सेवन रक्त का थक्का जमने से रोकता है जिससे ब्लड प्रेशर और ह्रदय से संबंधित बहुत से रोगों की संभावना बहुत ही कम हो जाती है। आलूबुखारा का सेवन करने से अल्जाइमर का खतरा भी कम हो जाता है।

6. बालों के लिए फायदेमंद : आलूबुखारा के सेवन से बाल काले होने के साथ-साथ चमकदार होते हैं और बालों के अंदर से रुसी भी खत्म हो जाती है।

7. पाचन तंत्र के लिए फायदेमंद : आलूबुखारा में फाइबर की मात्रा पाई जाती है जो हमारे शरीर को स्वस्थ रखने के साथ-साथ पाचन तंत्र को भी मजबूत करती है। आलूबुखारा का सेवन करने से पेट दर्द और आँतों में होने वाली समस्याएं भी कम हो जाती हैं।

8. ब्लड प्रेशर में फायदेमंद : आलूबुखारा में पोटैशियम होने के कारण यह ब्लड प्रेशर को सामान्य रखता है इसलिए ब्लड प्रेशर में आलूबुखारा का सेवन करना चाहिए।

9. गर्भावस्था में फायदेमंद : आलूबुखारा में ऐसे बहुत से पोषक तत्व और खनिज होते हैं जो गर्भवती के साथ साथ गर्भवस्थ शिशु को भी स्वस्थ रहने और उसके विकसित होने में मदद करते हैं।

10. गठिया में फायदेमंद : आलूबुखारा में ऑस्टियोपोरोसिस को रोकने की क्षमता होती है। अगर आप भी ऑस्टियोपोरोसिस की समस्या से परेशान हैं तो आप आलूबुखारा का सेवन करें इससे आपकी हड्डियाँ मजबूत हो जाएंगी और आपको ऑस्टियोपोरोसिस की बीमारी से छुटकारा मिल जाएगा।

11. मधुमेह में फायदेमंद : आलूबुखारा का सेवन करने से शुगर की मात्रा बढती नहीं है और ब्लड शुगर भी नियंत्रण में रहती है। जिन लोगों को डायबिटीज होती है वे भी आलूबुखारा को आराम से खा सकते हैं क्योंकि आलूबुखारा शरीर के शुगर लेवल को बढने से रोकता है।

12. आँतों के लिए फायदेमंद : आलूबुखारा में फाइबर की मात्रा पाई जाती है जो शरीर को स्वस्थ रखने में मदद करता है। आलूबुखारा में फ्रेंडली बैक्टीरिया होता है जो पाचन क्रिया को स्वस्थ रखने और लाभ देने में मदद करता है जिससे पेट में भारीपन नहीं होता और आँतों को भी आराम होता है।

13. एनीमिया के लिए फायदेमंद : आलूबुखारा में पर्याप्त मात्रा में आयरन पाया जाता है जो खून बनाने में मदद करता है इसलिए आलूबुखारा का सेवन करने से एनीमिया जैसी बीमारी को कम किया जा सकता है।

14. मस्तिष्क के लिए फायदेमंद : आलूबुखारा में एंटी ऑक्सीडेंट पाए जाते हैं जो मस्तिष्क को स्वस्थ रखने में मदद करते हैं और मस्तिष्क को तनाव मुक्त करते हैं।

15. सर्दी जुकाम में फायदेमंद : आलूबुखारा में विटामिन सी होता है जो हमें सर्दी जुकाम से बचाता है। आप सर्दी जुकाम को जड़ से खत्म करने के लिए आलूबुखारा का नियमित रूप से सेवन कर सकते हैं।

आलूबुखारा के नुकसान (Sides Effect of Plum In Hindi) :

1. अधिक सेवन नुकसानदायक : जब आलूबुखारा का अधिक सेवन किया जाता है तो पेट की सुजन, गैस और पाचन तंत्र की समस्याएं हो सकती हैं।

2. एलर्जी से नुकसानदायक : सूखे हुए आलूबुखारा को सल्फाइटस के साथ उपचार किया जाता है जिससे उन्हें ऑक्सीकरण से बचाव में सहायता मिल सके जो इस फल को गहरा कर देता है और भूरे रंग में बदल जाता है। जो भी व्यक्ति सल्फाइट की ओर स्न्वेद्न्शिलता रखता है उन्हें इसके सेवन से बचना चाहिए क्योंकि उन्हें इससे एलर्जी भी हो सकती है।

3. डॉक्टर से परामर्श : आलूबुखारा का सेवन करने से पहले एक बार डॉक्टर से परामर्श अवश्य ले लेना चाहिए क्योंकि यह आपके लिए नुकसानदायक भी हो सकता है।

4. पथरी में नुकसानदायक : जिन लोगों को पित्ताशय या गुर्दे की पथरी होती है उनके लिए आलूबुखारा का सेवन बहुत हानिकारक होता है क्योंकि आलूबुखारा में ऑक्सलेट होता है जो पथरी में परेशानी हो सकता है।

5. अधिक एसिड कंटेंट : आलूबुखारा संतरे, हरे सेब, अनानास, नींबू, अंगूर, टेंजेरिन और टमाटर की प्रजाति से हैं। जब आप एसिड कंटेंट की वजह से इन फलों का सेवन नहीं कर सकते तो आपको आलूबुखारा का सेवन भी नहीं करना चाहिए।

No comments:

Post a Comment